India

भारत में कोरोनावायरस के मामले: क्या लॉकडाउन होगा? भारत में कोविद -19 लॉकडाउन पर केंद्रीय मंत्री अमित शाह

हाइलाइट करें:

  • राष्ट्रीय तालाबंदी की घोषणा नहीं की जाएगी।
  • अमित शाह का कहना है कि राज्य फैसला कर सकते हैं
  • केंद्रीय गृह मंत्री ने नीति को स्पष्ट किया

नई दिल्ली: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि देश में कोविद -19 मामलों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर राष्ट्रीय बंद की घोषणा नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि राज्य रोगियों की बढ़ती संख्या के सामने स्वतंत्र निर्णय ले सकते हैं।

केंद्र ने कोविद की बढ़ोतरी के दौरान 50 लाख रुपये का बीमा निलंबित कर दिया; स्वास्थ्य कर्मचारियों के लिए एक झटका
अमित शाह ने कहा कि यह तय करना राज्य सरकारों पर निर्भर था कि वे स्थानीय नियंत्रण चाहते हैं या राज्यों में तालाबंदी। देश में कोविद पीड़ितों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर तालाबंदी की घोषणा की जाएगी या नहीं, इस पर बढ़ती चिंताओं के बीच अमित शाह की प्रतिक्रिया आई है।

यह भी पढ़ें:  DMK कांग्रेस सीट: कांग्रेस को 21 से अधिक सीटें नहीं मिलेंगी; बिहार और पुदुचेरी सबक: DMK - तमिल नाडु चुनाव dmk और सीट बंटवारे पर कांग्रेस की बैठक विफल

केजरीवाल ने पीएम को पत्र लिखकर कोविद के मरीजों के लिए 7,000 बेड की मांग की
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने उद्योग संघों से कहा है कि सार्वजनिक परिवहन बंद नहीं किया जाएगा और देशव्यापी तालाबंदी की घोषणा नहीं की जाएगी। देश में कोविद रोगियों की संख्या तेजी से बढ़ने की सूचना है। विभिन्न राज्यों में परीक्षण सकारात्मकता चिंताजनक है। जैसे ही ऑक्सीजन की कमी हुई, केंद्र सरकार ने प्रत्येक राज्य को आवश्यक ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए प्रयास शुरू कर दिए।

यह भी पढ़ें:  यूपी पंचायत चुनाव: यूपी पंचायत चुनाव में भाजपा को झटका; स्वतंत्र पीठ चर्चा

कोविद -19; तमिलनाडु ने प्रतिबंधों को कड़ा किया
ऑक्सीजन की डिलीवरी के साथ, अधिक अस्पताल स्थापित किए गए और उपचार प्रणाली को तेज करने का सुझाव दिया गया। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखकर कोविद के रोगियों के लिए 7,000 अस्पताल के बिस्तर की मांग की है। पत्र में केजरीवाल ने कहा कि देश की राजधानी कोविद की स्थिति तेजी से बिगड़ रही है। प्रधानमंत्री ने कोविद के टीके के उत्पादन में तेजी लाने का निर्देश दिया था।

यह भी पढ़ें:  रैनी गाँव: क्या चमोली त्रासदी भगवान का प्रकोप है? ग्रामीणों ने मंदिर को तोड़ा

पुरातत्व पर एक करोड़ खर्च; वह किसान जिसने घर को संग्रहालय में बदल दिया

Related Articles

Back to top button